Sanskrit

Name of Department : Sanskrit
Year of Establishment : 1899
Sanctioned Post :
No of Teacher : 1
Contact No :

Introduction

स्थापना 1899 इसके संस्थापक अधयक्ष पं० प्रो० श्रीराम झा थे। विभाग के प्रमुख प्राध्यापकों में प्रो० रामदास राय, प्रो० सुरेन्द्रनाथ मजूमदार शास्त्री, प्रो० उमानात झा, प्रो० शीतल प्रसाद शुक्ल, प्रो० रामनारायण शर्मा, डा० जयमंत मिश्र के नाम सादर स्मरणीय हैं। इस विभाग में कार्यरत् 5 प्राध्यापकों ने विभिन्न विश्वविद्यालयों में कुलपति एवं २ ने प्रतिकुलपति के पद को अलंकृत किया है। विभाग के छात्र-प्राध्यापक रहे डा० रामकरण शर्मा ने संस्कृत के क्षेत्र में अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर ख्याति अर्जित की। वर्तमान में विभाग में १ प्रोफेसर तथा २ एसोसिएट प्रोफेसर कार्यरत् हैं। इस विभाग में स्नातक प्रतिष्था तथा अनुपूरक पाठ्यक्रमों का अध्यापन होता है। परीक्षाएं वार्षिक होती हैं तथा अन्तर्विभागीय सहयोग इतिहास, राजनीति विज्ञान, दर्शन तथा हिन्दी विभागों के क्रमशः प्राचीन भारतीय इतिहास, कौटिल्य तथा स्मृति शास्त्र, भारतीय दर्शन तथा भाषाविज्ञान आदि क्षेत्रों के लिए प्रदान किया जाता है।

Faculty Members

S. No. Name Qualification Designation Specialization
1 Prof. (Dr.) Anil Kumar Singh M.A., Ph.D Professor

Research Project

S. No. Title Type Faculty Members Funding Agency Year Status
1 Accessible books production for vision impaired Minor Prof. (Dr.) Sangita Agrawal UGC 2013-14 Ongoing

Seminar & Conference

S. No. Topic Event Level Funding Agency Year
1 Departmental Seminar on the topic �Sanskrit Wangmaye Sarwa Dharma Samabhavah� held on 07.02.2014 funded by the college. Seminar National L. S. College, Muzaffarpur 2014

Placement

S. No. Student Session Agency Year
1 2018

Eminent Personality

S. No. Name Designation Year
1 Prof. Ramkaran Sharma Ex-Vice-Chancellor, Visiting Professor, Columbia University 1946